बेइज़्ज़ती इसे कहते हैं!



बेइज़्ज़ती इसे कहते हैं!

पप्पू एक रेस्तरां में गया। वहाँ काफी भीड़-भाड़ थी। तभी उसने देखा कि एक लड़की अकेली बैठी थी। उसके साथ वाली कुर्सी खाली थी। पप्पू ने उससे पूछा, "मिस, क्या मैं यहाँ बैठ सकता हूँ?"

वह लड़की जोर से चिल्लाई, "नहीं, मैं तुम्हारे साथ रात नहीं गुजार सकती।"

वहाँ मौजूद सभी लोग पप्पू को घूर-घूर कर देखने लगे।

पप्पू शर्म से पानी-पानी हो गया। जब वह वापस लौटने लगा तो उस लड़की ने उसका हाथ पकड़ा और धीरे से बोली, "सॉरी! दरअसल मैं Human Behavior पर रिसर्च कर रही हूँ और देखना चाहती थी कि इंसान शर्मिंदा होने के बाद कैसा महसूस करता है।"

पप्पू फ़ौरन दो कदम पीछे हटा और जोर से चिल्लाया, "क्या? सिर्फ एक रात के दस हजार रुपये? कुछ तो कम करो।"

लड़की हक्की-बक्की रह गई। सभी लोग उसकी ओर देख कर हँसने लगे।

पप्पू ने धीरे से उससे कहा, "अब महसूस करो मिस, दिल खोलकर महसूस करो कि इंसान शर्मिंदा होने के बाद कैसा महसूस करता है।